मित्रों, कल्पना कीजिए की मंगल ग्रह पर एक हेलीकॉप्टर उड़ रहा है जो हम इंसानों ने भेजा है। सही सुना आपने। हाल ही में नासा के एक छोटे रोबोट और हेलीकॉप्टर Ingenuity Mars Helicopter ने Mars Mission मंगल ग्रह पर सफल लैंडिंग की है।

हेलीकॉप्टर मंगल ग्रह पर उड़ान भरने वाला पहला हेलीकाप्टर है। यह लाल ग्रह पर लगभग दो वर्ष तक रहेगा और प्राचीन जीवन के संकेतों को ढूंढेगा।

Mars Mission 2021

इस मिशन के दौरान नासा ने Opportunity के बाद एक और रोबोट के साथ एक हेलीकाप्टर भेजा है। इसके पहले भी हमने इस रेड प्लैनेट पे कई सारे रोबोट्स भेजे है। लेकिन इस बार नासा ने कुछ नया और बेहतरीन किया है।

हमने Mission के भू-भाग को चेक किया है। इस लाल गृह की पुरानी सड़कों को मैप किया है और यहां तक ​​कि इसके इंटीरियर का भी अध्ययन किया है।

आज हम इस पुरे मिशन के बारे में विस्तार से जानेंगे। हमारे इस Blog के अंत तक जरूर बने रहिये

Nasa Mars Helicopter Flying on Red Planet
Nasa Mars Helicopter Flying on Red Planet

आठ साल हो गए जब हमने Curiosity Rover को मंगल ग्रह पर उतारा था। मानव जाति के लिए सबसे सफल Mars Mission जो 2012 में लॉन्च किया गया था।

बैक-टू-बैक छह विफलताओं के बाद भी पचास साल से लगातार अंतरिक्ष की सीमाओं को इंसान पार कर रहे है।

नासा ने इस 2021 Mars Mission को “Perseverance” नाम दिया था जिसका मतलब है “द्रुढता”।.

इस हेलीकॉप्टर मंगल मिशन को लांच करने के बाद 6 महीने के लिए इसके घटक निष्क्रिय हो गए थे। जब तक वे अगले साल में मंगल तक नहीं पहुंच जाते। इस नए रोवर को मंगल ग्रह पर “जेजेरो क्रेटर” पर उतरा गया था।

साथ ही में आपको बता दे की लैंडिंग साइट को बहुत सावधानी से चुना गया था।

Reccomended : देखिये कैसे एलोन मस्क ने अपनी कार अंतरिक्ष में छोड़ दी Where is Elon Musk’s Roadster Car in Space?

Mars Mission Rover Looking Over Helicopter
Mars Mission Rover Looking Over Helicopter

नासा और एक रोवर मंगल पर क्यों भेज रहा है?

लेकिन मन में एक सामान्य सवाल आता है की हम और एक रोवर क्यों भेज रहे है? इस मिशन के पीछे वैज्ञानिक उद्देश्य क्या है?।

इसका प्रमुख लक्ष्य क्या है? तो हम आपको बता दे की इस Mars Mission का लक्ष्य है मंगल गृह पर जैविक हस्ताक्षरों की खोज करना मतलब फॉसिल्स ढूँढना।

इस नए रोवर पे 10 से 30 फ़ीट निचे जमीन में देखने की क्षमता वाला भू गर्भ रडार बिठाया गया है, जो मंगल की जमीन में छुपे रहस्यों को उजागर करने में मदद करेगा।

नए Rover को बेहतर दृष्टी देने के लिए इस्पे 23 कैमरा बिठाये गए है जो की Curiosity Rover की तुलना में 6 कैमरे ज्यादा है।

Nasa & SpaceX Mars Mission

क्यूरियोसिटी रोवर को केवल 1 मेगापिक्सेल कैमरा के साथ फिट किया गया था। जो Black & White फोटो लेता था, लेकिन “Perseverance” में 20 मेगापिक्सेल कलर कैमरा है।

इसका मतलब है की भविष्य में हमे बेहतर क्वालिटी के कलर फोटो देखने मिल सकते है।

इतिहास में पहली बार एक Microphone (Mic) इस रोवर पे फिट किया गया है। पहली बार हम हमारे पड़ोसी गृह की Real-time में आवाज को सुन सकेंगे।

लेकिन सबसे हटके इस मिशन को दिलचस्प बनता है, वो है एक Drone जो हेलीकॉप्टर जैसा होगा। Nasa ने इस हेलीकॉप्टर का नाम “Ingenuity” रखा है।

Reccomended : जानिये 91 करोड़ का स्पेस सूट एलोन मस्क ने कैसे बनाया How Elon Musk Made SpaceX Space Suit?

Credit : NASA / Ingenuity Mars Helicopter
Credit : NASA / Ingenuity Mars Helicopter

नासा ने इस मिशन का नाम कैसे रखा?

इस Helicoptor का नाम रखने के लिए Nasa ने अमेरिका के स्कूल और कॉलेजेस में एक Contest रखा था..

उनमे से एक नाम चुना जानेवाला था। “Alabama” के एक High School Student वेनिजा रुपाणी ने नासा के मार्स हेलीकॉप्टर के लिए “Ingenuity” नाम का सुझाव किया और नासा ने उसे फाइनल कर दिया।

लैंडिंग के बाद कुछ दिन के लिए हेलिकॉप्टर को रोवर के पेट में छुपाया गया था, और जैसेही सही समय आगया इसने मंगल ग्रह की सवारी करदी।

रोवर की लैंडिंग के बाद के कुछ महीनों के लिए, Mars Planet के मलबे से इसे ढालने के लिए हेलीकॉप्टर एक सुरक्षात्मक आवरण में घिरा रहेगा।

Nasa Mars Helicoptor Mission Successful

रोवर मिशन में समय सही होने पर, Ingenuity को लाल ग्रह की सतह पर अपने आप खड़े होने और खुद काम करने के लिए तैनात किया जाएगा। इस हेलीकॉप्टर का वजन 2 किलो है।

इस हेलीकॉप्टर ने केवल एक महीने के दौरान लगभग पांच बार उड़ान भरी। 10 मीटर तक की ऊंचाई को 3 मिनट ले लिए उड़ान रहेगी। ढाई महीने बाद इसका परीक्षण किया गया।

ये उड़ान काफी कम थी लेकिन यह रियलिटी में मानव इतिहास में एक पल के लिए अलौकिक क्षण होगा।

Reccomended : Check These Knowledge Facts In Hindi

Mars Ingenuity Red Planet Clouds
Mars Ingenuity Red Planet Clouds

नया रोवर मंगल पर क्या काम करेगा?

मंगल गृह पर जीवन की खोज के लिए ये रोवर 20 से 30 नमूने जमा करेगा। इस मंगल गृह की मिटटी को Astronaut जब मंगल पर जायेंगे तो उसका स्टडी करेंगे। साथ में ये मंगल पर ऑक्सीजन पैदा करने वाला उपकरण भी लगाया है।

भविष्य में इंसानो के लिए Mars पर कॉलोनी बनाने का मार्ग बनाएंगे।

हमारे पड़ोसी मंगल गृह पे 2021 का ये मिशन निस्संदेह उस वर्ष का Flagship Mission रहा है। हजारों वैज्ञानिकों के प्रयास से ये मिशन सफल बन चूका है।

दोस्तों आपको Ingenuity Mars Helicopter के बारे में रोचक जानकारी कैसी लगी। हमे कमेंट करके जरूर बताएं और इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

उम्मीद है आपको यह Ingenuity Mars Helicopter in Hindi पसंद आई हो।

धन्यवाद 🙏